उलझनों और कश्मकश में उम्मीद की ढाल लिए बैठा हूँ..

Chanchal Singh | 10:55 PM | 2 comments


उलझनों और कश्मकश में उम्मीद की ढाल लिए बैठा हूँ..
ए जिंदगी! तेरी हर चाल के लिए..मैं दो चाल लिए बैठा हूँ |
लुत्फ़ उठा रहा हूँ मैं भी आँख - मिचोली का ...मिलेगी कामयाबी, हौसला कमाल का लिए बैठा हूँ l
चल मान लिया.. दो-चार दिन नहीं मेरे मुताबिक...गिरेबान में अपने, ये सुनहरा साल लिए बैठा हूँ l
ये गहराइयां, ये लहरें, ये तूफां, तुम्हे मुबारक ...मुझे क्या फ़िक्र..,
.
.
.
.
. मैं कश्तीया और दोस्त... बेमिसाल लिए बैठा हूँ...
smile emoticon

Category: , , ,

2 comments

  1. Rista wo nahi jisme
    Attitude or Ego ho
    Rista wo hai jisme
    Ek ruthne Me Expert ho,


    hello friends here you can read Hindi Shayari. and Urdu Shayari

    if you want read romantic shayari Click Here.

Today's Deal (Click on Images To Buy Now)